Saturday: ये शनिवार है बेहद खास, 10 जुलाई को इन उपायों से पूरी होगी आपकी हर मनोकामना !

0
8
Advertisement


10 जुलाई 2021 के शनिवार पर अमावस्या का साया…

न्याय के देवता शनिदेव का सप्ताहिक दिन शनिवार माना जाता है। मान्यता के अनुसार शनि द्वारा कर्म के विधान के तहत जातक को दंड देकर न्याय करते हुए संतुलन रखा जाता है। वहीं शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या शनि अमावस्या कहलाती है।

ऐसे में इस शनिवार यानि 10 जुलाई 2021 की उदया तिथि पर भी अमावस्या का प्रभाव है। जिसके कारण इस दिन भी शनि अमावस्या का असर देखने को मिलेगा। ऐसे में जानकारों के अनुसार इस दिन कुछ खास उपाय कर शनिदेव का विशेष आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार हिंदू पंचांग में हर माह के कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन अमावस्या तिथि होती है। अमावस्या की तिथि देवी माता लक्ष्मी को प्रिय होने के साथ ही पितरों को भी समर्पित है।

Must Read- शनिदेव का दिन है खास, जानें क्या करें और क्या न करें

ऐसे में आज यानि 10 जुलाई 2021 को शनिवार के दिन उदया तिथि में अमावस्या का प्रभाव होने के चलते इस दिन के कुछ विशेष उपाय इस प्रकार हैं…

Must Read- जुलाई में पड़ेंगी दो अमावस्या, जानें किस दिन क्या करना रहेगा विशेष?

1. विवाह में आ रही परेशानियों से छुटकारे के लिए ये दिन है विशेष
जानकारों के अनुसार शनिवार, 10 जुलाई का दिन उन विवाह योग्य जातकों के लिए काफी खास है, जिनके विवाह मे पितृ दोष की वजह से अड़चन आ रही है। ऐसे में इन जातकों के लिए आज इस दोष से मुक्ति पाने का खास अवसर है।

मान्यता है कि शनिवार के दिन उदया तिथि पर अमावस्या होने पर पितरों की खास पूजा और पितरों के नाम पर किया गया दान पितृ दोष से मुक्ति दिलाने में सहायक होता है। जिसके चलते पितृ दोष के कारण विवाह में आ रही परेशानी दूर होती है।

2. पापों से मुक्ति के लिए
शनिवार की उदया तिथि पर अमावस्या वाले दिन पीपल के वृक्ष पर सरसों के तेल से 11 या 21 दिये जलाकर शनिदेव का ध्यान और शनि चालीसा का पाठ करना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से अनजाने मे हुए पापों से मुक्ति मिलती है।

3. शनि की दशाओं में राहत
शनिवार की उदया तिथि पर अमावस्या वाले दिन श्रीकृष्ण के मंदिर में माखन का भोग लगाकर बांसुरी चढ़ानी चाहिए, मान्यता के अनुसार ऐसा करने से जातक की मनोकामना पूरी होने के साथ ही शनि की साढेसाती व ढइया जैसी दशाओं में भी राहत मिलती है।

Must Read- शनिदेव के ये बड़े रहस्य, जो बनते हैं आपकी कुंडली में शुभ व अशुभ के कारण

shanidev effects

4. मनचाहे जीवन साथी के लिए
शनिवार की उदया तिथि पर अमावस्या वाले दिन मंदिर में किसी ब्राह्मण को उडद की काली दाल और कच्चे चावल को मिलाकर देने के संबंध में मान्यता है कि ऐसा करने से जातक को मनचाहा जीवन साथी मिलता है।

शनिवार के अन्य उपाय…
1. काली माता की पूजा
देवी माता काली को शनि ग्रह की संचालक देवी माना जाता है। ऐसे में शनिवार को सरसों के तेल, काले तिल, काली उड़द आदि लेकर माता कालीका का विधि विधान से पूजन करना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से शनिदोष, पितृदोष और कालसर्प दोष से दूर हो जाता है।

2. हनुमान जी की पूजा
मान्यता है कि शनिवार को हनुमानजी की पूजा करने से शनि की साढ़ेसाती से होने वाली समस्याओं से पूरी तरह से राहत मिलती हैं। वहीं जानकारों का कहना है कि श्री हनुमान की शनिवार को पूजा से शनि के हर प्रकार के प्रकोप पर काबू हो जाता है।

Must Read- शनि देव को शांत करने के लिए ऐसे करें भगवान भैरव की आराधना

kaal bherav v/s shani

3. बाबा भैरव की पूजा
माना जाता है कि भगवान कालभैरव की पूजा से भी शनिदेव शांत होते हैं। ऐसे में शनि जब अधिक अशुभ फल देने लगें तो कालभैरव की पूजा करनी चाहिए। कालभैरव की पूजा से शनिदेव विशेष शांत होते हैं।

माना जाता है कि काल भैरव की पूजा करने से शनि की अशुभता में कमी आती है और परेशानी व बाधाएं दूर होती हैं। ऐसे में इस दिन मंदिर में जलेबी का प्रसाद और कुत्तों को भोजन अवश्य कराना चाहिए।

4. गाय के बछड़े को खिलाएं तेल का पराठा
शनिवार के दिन तेल का पराठा बनाकर उस पर कोई मीठा पदार्थ रखकर गाय के बछड़े को खिलाना चाहिए, माना जाता है कि ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

Must Read- गाय के बछड़े को खिलाएं तेल का पराठा, शनिदेव होंगे प्रसन्न!

shanidev become happy





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here