Jagannath Rath Yatra 2021: बिना श्रद्धालुओं के निकालेगी रथ यात्रा,कोविड की निगेटिव रिपोर्ट वाले ही खींच सकेंगे रथ

0
19
Advertisement


: जगन्नाथ मंदिर चार धामों में से एक…

: प्रशासन ने की विशेष तैयारियां…

Jagannath Rath Yatra 2021: हर साल देश में जगन्नाथ पूरी से 10 दिवसीय जगन्नाथ रथयात्रा का आयोजन किया जाता है। ये यात्रा हिंदू पंचांग के अनुसार इस रथयात्रा का आयोजन पूरी (उड़ीसा) के जगन्नाथ मंदिर से आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि होता है। दरअसल पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर को चार धामों में से एक माना जाता है।

इस जगन्नाथ रथ यात्रा का आयोजन भगवान विष्णु के अवतार भगवान जगन्नाथ उनके भाई बलभद्र और बहन देवी सुभद्रा के साथ किया जाता है। ऐसे में इस बार आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि सोमवार, 12 जुलाई को पड़ रही है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के दाैर में 12 जुलाई को निकलने वाली भगवान जगन्नाथ रथयात्रा के उपलक्ष्य में सुरक्षा को लेकर प्रशासन ने विशेष तैयारियां की है।

Must Read- जगन्नाथ मंदिर से जुड़े खास रहस्य, जो देते हैं विज्ञान को भी चुनौती

जगन्नाथ मंदिर प्रशासन के अनुसार इस बार कोविड -19 के लिए निगेटिव रिपोर्ट वाले सेवकों को रथ खींचने में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट के आदेश और ओडिशा सरकार की ओर से जारी एसओपी के अनुसार 2020 की ही तरह इस साल भी 12 जुलाई 2021 को बिना श्रद्धालुओं के रथ यात्रा निकाली जाएगी।

रथ खींचने वालों में भी जिन्हें टीका लगाया गया है और उनमें भी जिनकी आरटी-पीसीआर निगेटिव रिपोर्ट होगी उन्हें ही यात्रा में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी। इस बार पुलिसकर्मियों को छोड़कर लगभग 1,000 अधिकारियों को तैनात किया जाएगा। वहीं बताया जाता है कि इस साल वार्षिक रथयात्रा उत्सव छतों से भी देखने की अनुमति नहीं होगी।

MUST READ : लुप्त हो जाएगा आठवां बैकुंठ बद्रीनाथ – जानिये कब और कैसे! फिर यहां होगा भविष्य बद्री…

Aathwa baikunth

दरसअल हर साल ओड़िशा के पुरी में आयोजित होने वाली जगन्नाथ रथ यात्रा का इतिहास बेहद पुराना है। इसमें भगवान जगन्नाथ की रथ पर सवारी निकाली जाती है, वहीं इस यात्रा का बड़ा धार्मिक महत्व माना जाता है। ज्ञात हो कि पुरी भारत के चार धाम में से एक है।

इस यात्रा का हिन्दू धर्म में काफी महत्व है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार यह यात्रा आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को जगन्नाथपुरी से शुरू होकऱ दशमी को समाप्त हो जाती है। इस यात्रा के दौरान सबसे आगे ताल ध्वज रथ पर श्री बलराम, उसके पीछे पद्म ध्वज रथ पर देवी सुभद्रा व सुदर्शन चक्र और अंत में गरुण ध्वज रथ पर श्री जगन्नाथ जी विराजित रहते हैं।

Must Read- कुछ इस तरह हुआ था जगन्नाथ जी के इस अद्भभुत मंदिर का निर्माण

Jagannath temple

यात्रा को लेकर धार्मिक मान्यताएं…
पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान जगन्नाथ की बहन सुभद्रा ने एक बार नगर देखने के लिए जगन्नाथ जी के सामने इच्छा प्रकट की, इसके साथ ही उन्होंने द्वारका धाम के दर्शन कराने की भी प्रार्थना की। सुभद्रा की नगर देखने की इच्छा पर भगवान जगन्नाथ ने उन्हें रथ में बैठाकर नगर भ्रमण कराया। जिसके बाद से ही हर साल यहां रथ यात्रा निकाली जाने लगी। इसका वर्णन नारद पुराण, पद्म पुराण और स्कंद पुराण में भी किया गया है।

रथ खींचना सौभाग्य की बात
इस यात्रा के दौरान प्रभु जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा की प्रतिमाएं रखी जाती हैं। और इन प्रतिमाओं को रथ में रखकर नगर भ्रमण कराया जाता है। इस यात्रा के दौरान तीन रथ होते हैं, जिन्हें श्रद्धालुओं द्वारा खींचा जाता हैं। वहीं रथ को सौभाग्य की बात मानी जाती है। माना जाता है कि जो भी इस समय रथ खींचता है, उसे सौ यज्ञ के बराबर पुण्य मिलता है।

गौरतलब है कि 16 पहिए वाले रथ में प्रभु जगन्नाथ होते हैं जबकि 14 पहिए वाले रथ में भाई बलराम वहीं बहन सुभद्रा के रथ में 12 पहिए लगे होते हैं। मान्यताओं के अनुसार रथ यात्रा को निकालकर भगवान जगन्नाथ को प्रसिद्ध गुंडिचा माता मंदिर में पहुंचाया जाता हैं। जहां भगवान भाई-बहन के साथ आराम करते हैं।













Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here