मंगलवार के दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के 7 आसान उपाय,साथ ही जानें किन स्थितियों में करें बजरंग बली का कौनसा पाठ

0
17
Advertisement


हनुमान जी की कृपा से बुरा समय देखते ही देखते खत्म…

हिंदुओं में श्रीराम भक्त हनुमान कलयुग के देवता माने गए हैं। वहीं चिरंजीवी हनुमान जिनका एक नाम बजरंगबली भी है भगवान शिव के 11th Rudravtar 11वें रुद्रावतार भी माने जाते हैं। ऐसे में हनुमान भगवान शिव के अंश होने के कारण उन्हीं की तरह आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं।

हनुमान जी को संकटमोचक भी कहा जाता है, इसका कारण यह है कि मान्यता के अनुसार इस धरती पर ऐसा दुख नहीं जिसको Shri Hanuman ji हनुमानजी खत्म करने न कर सकें।

सप्ताह के वारों में हनुमान जी का दिन How to please hanuman ji on tuesday मंगलवार कहलाता है साथ ही वे ग्रहों में देवसेनापति मंगल के कारक देव माने गए हैं। दरअसल मंगलवार को उसके नाम मंगल के अनुसार ही अत्यंत शुभ और मंगलकारी माना जाता है। ऐसे में माना जाता है कि इस दिन यानि मंगलवार को हनुमानजी अपने भक्तों की हर प्रार्थना को सुनते हैं।

जानकारों के अनुसार मंगलवार को Blessings of hanuman ji हनुमान जी की कृपा पाने के लिए कुछ विशेष उपाय भी हैं, जिन्हें करने से बजरंगबली तुरंत प्रसन्न हो जाते हैं। यहां तक कि हनुमान जी की कृपा से बुरा समय देखते-देखते ही खत्म हो भी हो जाता है।

 

Remedies for Tuesday to please Hanuman ji: हनुमान जी को प्रसन्न करने के मंगलवार के उपाय

 

: मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए सुबह स्नान करने के बाद स्व्च्छ वस्त्र धारण कर किसी पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। इसके बाद पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें और तुलसी की माला से राम नाम का 11 माला जाप करना विशेष फलदायक होता है।

: इसके अलावा मंगलवार के दिन सुबह स्नान करने के बाद बरगद के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमानजी की प्रतिमा के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें।

अब इस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। माना जाता है कि इस उपाय से आपके पर्स में बरकत बनी रहेगी, और कभी धन की कमी से जुझना नहीं पड़ता। जब यह पत्ता पूरी तरह से सूख जाए तो इस पत्ते को नदी में प्रवाहित कर दें और इसी प्रकार से एक और पत्ता अभिमंत्रित कर अपने पर्स में रख लें।

: वहीं यदि आप शनिदोष से पीड़ित हैं तो मंगलवार को काली उड़द व कोयले को एक कपड़े में बांधकर एक पोटली बनाते हुए उसमें एक रुपए का सिक्का भी रखें। इस पोटली को अपने ऊपर से वार कर बहते पानी या किसी नदी में प्रवाहित कर दें। इसके बाद किसी हनुमान जी के सामने राम नाम का जप करें। माना जाता है कि इससे शनि दोष का प्रभाव कम होता है।

: मंगलवार के दिन हनुमान यंत्र की स्थापना करना बहुत शुभ माना गया है। मान्यता के अनुसार हनुमान यंत्र की स्थापना के बाद रोज इसकी पूजा करने से सभी परेशानियां शीघ्र दूर हो जाती हैं।

: मंगलवार को शाम के समय हनुमान मंदिर जाकर मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाने के बाद उसके सामने हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करना चाहिए। राम भक्त हनुमान जी को खुश करने का यह बहुत ही कारगर उपाय माना जाता है।

: मंगलवार को शाम के समय समीप स्थित किसी ऐसे मंदिर जाएं जहां भगवान श्रीराम व हनुमानजी दोनों की ही प्रतिमा हों। वहां जाकर श्रीराम व हनुमानजी की प्रतिमा के सामने शुद्ध घी के दीपक जलाएं। इसके बाद वहीं भगवान श्रीराम की प्रतिमा के सामने बैठकर हनुमान चालीसा व हनुमान प्रतिमा के सामने बैठकर राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें। माना जाता है कि इस उपाय से भगवान श्रीराम व हनुमानजी दोनों की ही कृपा प्राप्त होती है।

: यदि आप पर कोई संकट है तो मंगलवार के दिन हनुमान मंत्र का विधि-विधान से मंत्र जाप करें।
मंत्र-
‘ऊं नमो हनुमते रूद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा’

मंत्र की जाप विधि : सुबह जल्दी उठकर सबसे पहले स्नान आदि नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ वस्त्र पहनें। इसके बाद अपने माता-पिता, गुरु, इष्ट व कुल देवता को नमन कर कुश का आसन ग्रहण करते हुए हनुमान प्रतिमा के सामने इस मंत्र का जप करेंगे, माना जाता है कि ऐसा करने से विशेष फल मिलता है। जाप के लिए लाल हकीक की माला का प्रयोग करें।

 

Which recitation of Hanuman ji in which situations: मंगलवार को किन स्थितियों में करें हनुमानजी का कौनसा पाठ? …

 

यूं तो हनुमान जी की पूजा और उनका हर पाठ हमें किसी न किसी रूप में लाभ ही देता है, लेकिन जानकारों के अनुसार हनुमान जी का पाठ कुछ विशेष स्थितियों में ज्यादा ही कारगर सिद्ध होता है। और अलग अलग स्थितियों में हनुमान जी के अलग अलग पाठ विशेष माने गए हैं।

: शत्रु से बचने व तरक्की के लिए :- कई बार व्यक्ति न चाहते हुए भी अपने कार्य या व्यवहार से लोगों को रुष्ट कर देते हैं, इससे उनके शत्रु बढ़ जाते हैं। वहीं कुछ लोगों की स्पष्ट बोलने की आदत उनके गुप्त शत्रु भी बना देती हैं। इसके अलावा यदि आप सभी तरह से अच्छे हैं तो भी आपकी तरक्की से लोग जलते हों और आपके विरुद्ध षड्‍यंत्र रचते हों।

माना जाता है कि ऐसे समय में ‘श्री बजरंग बाण’ का पाठ न केवल आपकी रक्षा करता है, बल्कि शत्रुओं को दंड भी देता है। माना जाता है कि बजरंग बाण से शत्रु को उसके किए की सजा मिल जाती है, लेकिन इसका पाठ एक जगह बैठकर अनुष्ठानपूर्वक 21 दिन तक करना चाहिए और हमेशा सच्चाई के मार्ग पर चलने का संकल्प लेना चाहिए, क्योंकि हनुमानजी सिर्फ पवित्र लोगों का ही साथ देते हैं।

: बंधन मुक्त रहने के लिए:- माना जाता है कि सुबह और शाम नित्य हनुमान चालीसा पढ़ने वाले व्यक्ति को कोई भी व्यक्ति बंधक नहीं बना सकता। ऐसे में उस पर कारागार का संकट कभी नहीं आता। यदि किसी व्यक्ति को अपने कुकर्मों के कारण कारागार (जेल) हो गई है, तो उसे संकल्प लेकर क्षमा-प्रार्थना करनी चाहिए और आगे से कभी किसी भी प्रकार के कुकर्म नहीं करने का वचन देते हुए हनुमान चालीसा का 108 बार पाठ करना चाहिए। हनुमानजी की कृपा हुई तो कारागार से ऐसे व्यक्ति भी मुक्त हो जाते हैं।

: शारीरिक पीड़ाओं से मुक्ति के लिए:- शारीरिक पीड़ाओं से मुक्ति के लिए भी हनुमान जी का पाठ काफी कारगर माना गया है। इसके तहत यदि आप गठिया, वात, सिरदर्द, कंठ रोग, जोड़ों का दर्द आदि तरह के दर्द से परेशान हैं, तो जल का एक पात्र सामने रखकर हनुमान बाहुक का 26 या 21 दिनों तक मुहूर्त देखकर पाठ करें। प्रतिदिन उस जल को पीकर दूसरे दिन दूसरा जल रखें। हनुमान जी की कृपा से शरीर की समस्त पीड़ाओं से आपको मुक्ति मिल जाएगी।

: भय मिटाने के लिए :- यदि आप अंधेरे, भूत-प्रेत से डरते हैं या किसी भी प्रकार का भय है तो आप ‘हं हनुमंते नम:’ का रात को सोने से पूर्व हाथ-पैर और कान-नाक धोकर पूर्वाभिमुख होकर 108 बार जप करके सो जाएं। कुछ ही दिनों में धीरे-धीरे आप में निर्भीकता का संचार होने लगेगा।

: गृह कलह से बचने के उपाय :- प्रति मंगलवार और शनिवार को हनुमान मंदिर में जाकर गुड़ और चना अर्पित करें और घर में सुबह-शाम हनुमान चालीसा का पाठ करें। पाठ करने के पहले और बाद में आधे घंटे तक किसी से बात न करें। जब 21 दिन पूरे हो जाएं तो हनुमान जी को चोला चढ़ाएं। माना जाता है कि ऐसा करने से हनुमान जी तुरंत ही घर में सुख-शांति भर देंगे।

: ग्रह पीड़ा से मुक्ति के लिए:- हनुमान जी की कृपा बड़ी से बड़ी परेशनियों से छुटकारा दिला सकती है,ऐसे में हनुमान जी की कृपापात्र बने व्यक्ति का शनि और यमराज भी बाल बांका नहीं कर सकते। यदि आप भी शनि ग्रह की पीड़ा से छुटकारा चाहते हैं तो हर मंगलवार हनुमान मंदिर जाएं और शराब व मांस के सेवन से दूर रहें। इसके साथ ही माना जाता है कि शनिवार को सुंदरकांड या हनुमान चालीसा पाठ करने से शनि भगवान आपको लाभ देने लगेंगे।

इन सब उपायों के अलावा हनुमान जी का शाबर मंत्र भी अत्यंत ही सिद्ध मंत्र है। इसके प्रयोग से हनुमान जी तुरंत ही आपके मन की बात सुन लेते हैं। इसका प्रयोग तभी करें जब यह सुनिश्चित हो कि आप पवित्र व्यक्ति हैं। यह मंत्र आपके जीवन के सभी संकटों और कष्टों को तुरंत ही चमत्कारिक रूप से समाप्त करने की क्षमता रखता है। हनुमान जी के कई शाबर मंत्र हैं और अलग-अलग कार्यों के लिए हैं। लेकिन इनकी साधना किसी योग्य गुरु के सामने ही की जानी चाहिए।





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here